Wp/gbm/धनेश कोठारी

< Wp‎ | gbm
Wp > gbm > धनेश कोठारी

धनेश कोठारी (IPA: dʰənes koʈʰə:ɾi) गढ़वळीऽ यऽक पसिद्ध कवि छन।

कबिता-संग्रैEdit

"ज्यूंदाळ" यूंऽ पैलू कबिता-संग्रै च।

ज्यूंदाळ बटि पस्तूत​ छन कुछ कब्यांशEdit

"म्यारा डेरम्"Edit

गणेश च चांदरु नि नारेण च पुजदारु नि

उरख्याळी च कुटदारु नि जांदिरी च पिसदारु नि

डौंर थाळि च बजौंदारु नि पुंगड़ा छन बुतदारु नि

ओडु च सर्कोंदारु नि गोरु छन पळ्दारु नि

मन्खि छन बचळ्दारु नि बाटा छन हिटदारु नि डांडा छन चढ़दारु नि

"मेरि स्याणि"Edit

मेरि स्याणि मेरि गाणि आगास सि अनन्त छन

समोदर कि टफाक हिमालै मा दरिद्रता बटि समरिद्धी तक करम से लुकि नाम अर दाम कि भागै पठाळी मा बैठी

बसंत का मौल्यार जन फ्योंली का पिंगल्यार सी रीता पाखौं हर्याळी कि आस देव किरपा का सारा

गंगा सि निर्बिघ्न् बगदी सुपन्यों कि सीढ़ी उकळी जोन थैं लौफ्यांण कि कोशिश चमत्कार कु नमस्कार

खेति बाड़ी हौळ् तांगुळ् सब तुच्छ छन स्याणि श्रेष्ठ च बिराणु हेरि

इ बी हेर्यांEdit