Wp/anp/अंगुत्तर निकाय

< Wp‎ | anp
Wp > anp > अंगुत्तर निकाय
अंगुत्तरनिकाय मँ 11 'निपात' (अध्याय) छै जेकरा मँ 1 सँ लै क 11 क संख्या के क्रम मँ भगवान बुद्ध क उपदेश संग्रहित करलौ गेलौ छै। प्रत्येक अंक क संख्या एक अध्याय या निपात छै, जे 'अंक'-वार विषय क प्रतिपादनकरै छै। प्रथम निपात क नाँव 'एककनिपात' छेकै जेकरा मँ धम्म (धर्म) क व्याख्या 'एक' प्रकार सँ करलौ गेलौ छै। द्वितीय निपात क नाँव 'दुकनिपात' छेकै आरू ओकरा मँ धर्म क व्याख्या 'दू' दृष्टि सँ करलौ गेलौ छै। इ रंगकी सँ क्रमशः एकादसक-निपात तक ग्यारह-ग्यारह प्रकार सँ धर्म क व्याख्या करलौ गेलौ छै। एकक-निपात सँ अंक मँ वृद्धि होतँ हुअ दुक-तिक-चतुक्क-पञ्चक-छक्क-सत्तक-अट्ठक-नव-दसक-एकादसक इ प्रकार क्रम सँ 'अंक मँ वृद्धि' (अंकोत्तर) चलै छै। अतः ‘अंगुत्तरनिकाय’ (अंकोत्तरनिकाय) इ नाम पूर्णतः सार्थक तथा समुच्चे प्रतीत होय छै। वस्तुतः अंगुत्तरनिकाय, एकोत्तर आगम क शैली मँ रचित ग्रन्थ छेकै जौँ शैली क अनेक सुत्तपिटक मँ अनुसरण मिलै छै।

संरचनाEdit

अंगुत्तरनिकाय मँ 11 निपात छै जेकरौ नाँव निम्नलिखित छै-

  1. एककनिपात
  2. दुकनिपात
  3. तिकनिपात
  4. चतुक्कनिपात
  5. पञ्चकनिपात
  6. छक्कनिपात
  7. सत्तकनिपात
  8. अट्ठकादिनिपात
  9. नवकनिपात
  10. दसकनिपात
  11. एकादसकनिपात

एकरो देखौEdit

संदर्भEdit

बाहरी कड़ीEdit

त्रिपिटक

    विनय पिटक    
   
                                       
सुत्त-
विभंग
खन्धक परि-
वार
               
   
    सुत्त पिटक    
   
                                                      
दीघ
निकाय
मज्झिम
निकाय
संयुत्त
निकाय
                     
   
   
                                                                     
अंगुत्तर
निकाय
खुद्दक
निकाय
                           
   
    अभिधम्म पिटक    
   
                                                           
ध॰सं॰ विभं॰ धा॰क॰
पुग्॰
क॰व॰ यमक पट्ठान
                       
   
         
Template:Tnavbar